Home जीवन परिचय चैतन्य महाप्रभु जीवन परिचय | Chaitanya Mahaprabhu biography in hindi

चैतन्य महाप्रभु जीवन परिचय | Chaitanya Mahaprabhu biography in hindi

0
643
चैतन्य महाप्रभु जीवन परिचय | Chaitanya Mahaprabhu biography in hindi
चैतन्य महाप्रभु जीवन परिचय | Chaitanya Mahaprabhu biography in hindi

चैतन्य ( बंगाली : চীতন্য ) का अर्थ है “जो जागरूक है” (चेतना से व्युत्पन्न, जिसका अर्थ है “चेतना”);

महा का अर्थ है “महान” और प्रभु का अर्थ है “भगवान” या “गुरु”

चैतन्य महाप्रभु 16 वीं शताब्दी के वैदिक आध्यात्मिक नेता थे, जिन्हें उनके अनुयायी भगवान कृष्ण का अवतार मानते हैं।

चैतन्य ने गौड़ीय वैष्णववाद की स्थापना की, जो एक धार्मिक आंदोलन है जो वैष्णववाद या भगवान विष्णु की सर्वोच्च आत्मा के रूप में पूजा को बढ़ावा देता है।

गौड़ीय वैष्णववाद परम सत्य को प्राप्त करने की एक विधि के रूप में भक्ति योग की स्वीकृति सिखाता है।

चैतन्य महाप्रभु को ‘महा मंत्र’ या ‘हरे कृष्ण मंत्र’ को लोकप्रिय बनाने का श्रेय दिया जाता है।

उन्हें संस्कृत में आठ छंदों की एक प्रार्थना लिखने के लिए भी जाना जाता है, जिसे ‘शिक्षास्तकम’ के नाम से जाना जाता है।

कहा जाता है कि भगवान कृष्ण के समान विशेषताओं के साथ पैदा हुए थे, चैतन्य महाप्रभु एक बाल विलक्षण थे, और बहुत कम उम्र में एक विद्वान बन गए थे।

उन्होंने एक स्कूल भी खोला और उनके जीवन में बहुत पहले ही उनके हजारों अनुयायी थे।

हालांकि उनके अचानक और रहस्यमय ढंग से गायब होने या निधन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, कुछ विद्वानों और शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि उनकी मृत्यु मिर्गी से हुई होगी।

हालांकि, यह निष्कर्ष अभी भी बहस का विषय है चैतन्य अत्यंत निर्भीक थे।

उन्होंने सभी प्रकार के कामुक सुखों को जहर के रूप में त्याग दिया। वह संन्यास के नियमों का पालन करने में बहुत सख्त थे।

उनके पिघले हुए सोने जैसे रंग के कारण उन्हें कभी-कभी गौरांग या गौरा कहा जाता है।

उनके जन्मदिन को गौर-पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है । नीम के पेड़ के नीचे पैदा होने के कारण उन्हें निमाई भी कहा जाता है ।

गौरंगा’ श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु (या ‘गौरंगा महाप्रभु’), 16 वीं शताब्दी के बंगाली संत और गौड़ीय वैष्णववाद के संस्थापक का दूसरा नाम है ।

गौरांग महाप्रभु शब्द भगवान चैतन्य को श्रीमति राधारानी के सुनहरे रंग के अवतार या अवतार के रूप में संदर्भित करता है ।

कलियुग में, बुद्धिमान व्यक्ति भगवान के अवतार की पूजा करने के लिए सामूहिक नामजप करते हैं जो लगातार कृष्ण के नाम गाते हैं ।

हालांकि उनका रंग काला नहीं है ।वे स्वयं कृष्ण हैं। उनके साथ उनके सहयोगी, नौकर, हथियार और गोपनीय साथी हैं।

चैतन्य महाप्रभु कहते थे कि कृष्ण के नाम का जप कलियुग में कृष्ण के चरणों को प्राप्त करने का प्रमुख साधन है। नाम का संकीर्तन कलियुग में सर्वोच्च उपचारक है।

संकीर्तन वैदिक यज्ञ के समान है। संकीर्तन पापों का नाश करता है और हृदय को शुद्ध करता है और भक्ति का निर्माण करता है।

बैठते, खड़े, चलते, खाते, बिस्तर पर और हर जगह नाम का जाप करें। नाम सर्वशक्तिमान है। आप नाम को किसी भी स्थान पर, किसी भी समय दोहरा सकते हैं। भगवान का नाम ही मोक्ष का द्वार है।

इस प्रकार के शास्त्रों के आधार पर, भगवान चैतन्य को सर्वोच्च भगवान कृष्ण का अवतार माना जाता है ।

संक्षेप में, भगवान चैतन्य कलियुग के इस युग में अपनी अकारण दया के द्वारा युग-धर्म ( धर्म , या कर्तव्य, किसी दिए गए युग के लिए प्रासंगिक) का प्रसार करने के लिए प्रकट हुए , इस उदाहरण में भगवान के पवित्र नामों के जप के माध्यम से मुक्ति ( मोक्ष ) प्राप्त करने का सबसे आसान साधन ।

इस मंत्र का उद्देश्य रंग, जाति, पंथ, या राष्ट्रीयता जैसी किसी भी सांसारिक योग्यता या विशेषता को देखे बिना भगवान के लिए प्रेम फैलाना है।

वह भगवान के भक्त के रूप में बद्ध आत्माओं को यह सिखाने के लिए आये थे कि भक्ति सेवा को ठीक से कैसे किया जाए। स्वामी अपने ही उदाहरण से सेवक को शिक्षा दे रहा है।

इसलिए, भगवान चैतन्य द्वारा तैयार किए गए मार्ग को सभी आचार्यों ( शिष्य उत्तराधिकार से सीखा अधिकारियों) द्वारा सबसे उत्तम माना जाता है ।

एसी भटेवेदांत स्वामी प्रभुपाद के आध्यात्मिक गुरु श्रील भक्तिसिद्धांत सरस्वती प्रभुपाद ने गाया है:

श्री-कृष्ण-चैतन्य राधा-कृष्ण नहीं अन्य (भगवान श्री कृष्ण चैतन्य राधा-कृष्ण से अलग नहीं हैं) – जैसा कि भगवान चैतन्य स्वयं कृष्ण हैं उनकी सबसे अच्छी भक्त – श्रीमती राधारानी – की मनोदशा – जो अपनी सेवा, प्रेम और भगवान की भक्ति में सभी से आगे निकल जाती है।

उनकी सिद्धांत शिक्षाएँ हैं कि आत्मा या जीव भगवान कृष्ण का शाश्वत सेवक है और वह प्रेम और भक्ति के साथ उनकी सेवा करके ही सच्चा सुख प्राप्त कर सकता है और भगवान के पवित्र नामों का जाप ही आध्यात्मिक प्राप्ति का एकमात्र साधन है।

चैतन्य महाप्रभु ने राजनैतिक अस्थिरता के दिनों में हिंदू मुस्लिम एकता की सद्भावना को बल दिया, जाति-पांत, ऊंच-नीच की भावना को दूर करने की शिक्षा दी तथा विलुप्त वृंदावन को फिर से बसाया और अपने जीवन का अंतिम भाग वहीं व्यतीत किया।

जन्म तथा प्रारंभिक जीवन

चैतन्य चरितामृत के अनुसार चैतन्य महाप्रभु का जन्म18 फरवरी सन 1486 की फाल्गुन शुक्ला पूर्णिमा को पश्चिम बंगाल के नवद्वीप (नादिया) नामक गांव में हुआ।

जिसे अब मायापुर कहा जाता है। इनका जन्म संध्याकाल में सिंह लग्न में चंद्र ग्रहण के समय हुआ था।

उस समय बहुत से लोग शुद्धि की कामना से हरिनाम जपते हुए गंगा स्नान को जा रहे थे।

तब विद्वान ब्राह्मणों ने उनकी जन्मकुण्डली के ग्रहों और उस समय उपस्थित शगुन का फलादेश करते हुए यह भविष्यवाणी की, कि यह बालक जीवन पर्यन्त हरिनाम का प्रचार करेगा।

यद्यपि बाल्यावस्था में इनका नाम विश्वंभर था, परंतु सभी इन्हें निमाई कहकर पुकारते  थे ।

गौरवर्ण का होने के कारण लोग इन्हें गौरांग, गौर हरि, गौर सुंदर आदि भी कहते थे।

इनके पिता का नाम जगन्नाथ मिश्र व मां का नाम शची देवी था। निमाई बचपन से ही विलक्षण प्रतिभा संपन्न थे। साथ ही, अत्यंत सरल, सुंदर व भावुक भी थे।

महाप्रभु एक सुंदर बालक थे और नगर की स्त्रियाँ उपहार लेकर उन्हें देखने आती थीं। उसकी माँ के पिता।

पंडित नीलांबर चक्रवर्ती, एक प्रसिद्ध ज्योतिषी, ने भविष्यवाणी की थी कि बच्चा समय के साथ एक महान व्यक्ति होगा; और इसलिए उन्होंने उसका नाम विश्वम्भर रखा।

बालक के रूप में सुंदर हर कोई उसे प्रतिदिन देखना चाहता था। इनके द्वारा की गई लीलाओं को देखकर हर कोई हतप्रभ हो जाता था।

गौरांग ने संस्कृत सीखने की सभी शाखाओं जैसे व्याकरण, तर्कशास्त्र, साहित्य, बयानबाजी, दर्शन और धर्मशास्त्र में महारत हासिल की।

उन्होंने अद्भुत प्रतिभाओं का विकास किया। बहुत कम आयु में ही निमाई न्याय व व्याकरण में पारंगत हो गए थे।

इन्होंने कुछ समय तक नादिया में स्कूल स्थापित करके अध्यापन कार्य भी किया। निमाई बाल्यावस्था से ही भगवद्चिंतन में लीन रहकर राम व कृष्ण का स्तुति गान करने लगे थे।

१५-१६ वर्ष की अवस्था में इनका विवाह लक्ष्मीप्रिया के साथ हुआ। सन १५०५ में सर्प दंश से पत्नी की मृत्यु हो गई।

वंश चलाने की विवशता के कारण इनका दूसरा विवाह नवद्वीप के राजपंडित सनातन की पुत्री विष्णुप्रिया के साथ हुआ। जब ये किशोरावस्था में थे, तभी इनके पिता का निधन हो गया।

ईश्वर पुरी जी से मुलाकात

नसन १५०९ में जब ये अपने पिता का श्राद्ध करने गया गए,

गया में, उनकी मुलाकात ईश्वर पुरी नामक एक तपस्वी से हुई, जो आगे चलकर चैतन्य के गुरु बने।

उन्होंने निमाई से कृष्ण-कृष्ण रटने को कहा। तभी से इनका सारा जीवन बदल गया और ये हर समय भगवान श्रीकृष्ण की भक्ति में लीन रहने लगे।

भगवान श्रीकृष्ण के प्रति इनकी अनन्य निष्ठा व विश्वास के कारण इनके असंख्य अनुयायी हो गए।

सर्वप्रथम नित्यानंद प्रभु व अद्वैताचार्य महाराज इनके शिष्य बने।

इन दोनों ने निमाई के भक्ति आंदोलन को तीव्र गति प्रदान की।

इन्होंने अपने इन दोनों शिष्यों के सहयोग से ढोलक, मृदंग, झाँझ, मंजीरे आदि वाद्य यंत्र बजाकर व उच्च स्वर में नाच-गाकर हरि नाम संकीर्तन करना प्रारंभ किया।

हरे-कृष्ण, हरे-कृष्ण, कृष्ण-कृष्ण, हरे-हरे।
हरे-राम, हरे-राम, राम-राम, हरे-हरे॥

यह अठारह शब्दीय (३२ अक्षरीय) कीर्तन महामंत्र निमाई की ही देन है।

इसे तारकब्रह्ममहामंत्र कहा गया, व कलियुग में जीवात्माओं के उद्धार हेतु प्रचारित किया गया था।

जब ये कीर्तन करते थे, तो लगता था मानो ईश्वर का आह्वान कर रहे हैं।

सन १५१० में संत प्रवर श्री पाद केशव भारती से संन्यास की दीक्षा लेने के बाद निमाई का नाम कृष्ण चैतन्य देव हो गया।

मात्र २४ वर्ष की आयु में ही इन्होंने गृहस्थ आश्रम का त्याग कर सन्यास ग्रहण किया।

बाद में ये चैतन्य महाप्रभु के नाम से प्रख्यात हुए। सन्यास लेने के बाद जब गौरांग पहली बार जगन्नाथ मंदिर पहुंचे, तब भगवान की मूर्ति देखकर ये इतने भाव-विभोर हो गए, कि उन्मत्त होकर नृत्य करने लगे, व मूर्छित हो गए।

संयोग से तब वहां उपस्थित प्रकाण्ड पण्डित सार्वभौम भट्टाचार्य महाप्रभु की प्रेम-भक्ति से प्रभावित होकर उन्हें अपने घर ले गए।

घर पर शास्त्र-चर्चा आरंभ हुई, जिसमें सार्वभौम अपने पाण्डित्य का प्रदर्शन करने लगे, तब श्रीगौरांग ने भक्ति का महत्त्व ज्ञान से कहीं ऊपर सिद्ध किया व उन्हें अपने षड्भुजरूपका दर्शन कराया।

सार्वभौम तभी से गौरांग महाप्रभु के शिष्य हो गए और वह अन्त समय तक उनके साथ रहे। पंडित सार्वभौम भट्टाचार्य ने गौरांक की शत-श्लोकी स्तुति रची जिसे आज चैतन्य शतक नाम से जाना जाता है।

उड़ीसा के सूर्यवंशी सम्राट, गजपति महाराज प्रताप रुद्रदेव ने इन्हें श्रीकृष्ण का अवतार माना और इनका अनन्य भक्त बन गया।

चैतन्य महाप्रभु संन्यास लेने के बाद नीलांचल चले गए। इसके बाद दक्षिण भारत के श्रीरंग क्षेत्र व सेतु बंध आदि स्थानों पर भी रहे।

इन्होंने देश के कोने-कोने में जाकर हरिनाम की महत्ता का प्रचार किया।

सन १५१५ में विजयादशमी के दिन वृंदावन के लिए प्रस्थान किया।

 ये वन के रास्ते ही वृंदावन को चले। कहते हैं, कि इनके हरिनाम उच्चारण से उन्मत्त हो कर जंगल के जानवर भी इनके साथ नाचने लगते थे।

बड़े बड़े जंगली जानवर जैसे शेर, बाघ और हाथी आदि भी इनके आगे नतमस्तक हो प्रेमभाव से नृत्य करते चलते थे।

कार्तिक पूर्णिमा को ये वृंदावन पहुंचे। वृंदावन में आज भी कार्तिक पूर्णिमा के दिन गौरांग का आगमनोत्सव मनाया जाता है।

यहां इन्होंने इमली तला और अक्रूर घाट पर निवास किया। वृंदावन में रहकर इन्होंने प्राचीन श्रीधाम वृंदावन की महत्ता प्रतिपादित कर लोगों की सुप्त भक्ति भावना को जागृत किया।

यहां से फिर ये प्रयाग चले गए। इन्होंने काशी, हरिद्वार, शृंगेरी (कर्नाटक), कामकोटि पीठ (तमिलनाडु), द्वारिका, मथुरा आदि स्थानों पर रहकर भगवद्नाम संकीर्तन का प्रचार-प्रसार किया।

चैतन्य महाप्रभु ने अपने जीवन के अंतिम वर्ष जगन्नाथ पुरी में रहकर बिताएं। यहीं पर सन १५३३ में ४७ वर्ष की अल्पायु में रथयात्रा के दिन उन्होंने श्रीकृष्ण के परम धाम को प्रस्थान किया

चैतन्य महाप्रभु की यात्रा

कई वर्षों तक, चैतन्य ने भक्ति योग की वकालत करते हुए, भारत की लंबाई और चौड़ाई की यात्रा की।

कृष्ण के नाम का जप करते हुए, चैतन्य परम आनंद या परमानंद की स्थिति में विभिन्न स्थानों की पैदल यात्रा की।

1515 में, चैतन्य ने वृंदावन का दौरा किया, जिसे भगवान कृष्ण का जन्म स्थान माना जाता है।

चैतन्य की यात्रा का मुख्य उद्देश्य बाद में ‘पुनर्निवेश’ कहा गया, क्योंकि चैतन्य वृंदावन में भगवान कृष्ण से जुड़े महत्वपूर्ण स्थानों की पहचान करना चाहते थे।

ऐसा कहा जाता है कि चैतन्य सात मंदिरों (सप्त देवालय) सहित सभी महत्वपूर्ण स्थानों का पता लगाने में सफल रहे, जो आज भी वैष्णवों द्वारा देखे जाते हैं।

वर्षों तक यात्रा करने के बाद, चैतन्य ओडिशा के पुरी में बस गए, जहाँ वे अपने जीवन के अंतिम 24 वर्षों तक रहे।

चैतन्य को न केवल उनके उत्साही भक्तों और अनुयायियों द्वारा, बल्कि 16 वीं शताब्दी के कई शासकों द्वारा भी कृष्ण के रूप में सम्मानित किया गया था।

प्रतापरुद्र देव, एक गजपति शासक, उनके सबसे उत्साही संरक्षकों में से एक और उनकी ‘संकीर्तन’ सभाओं के भक्त बन गए।

कृष्ण का नामजप करते हुए परमानंद के भाव में वह अपना होश खो बैठते थे।

उन्होंने उपदेश दिया कि भक्ति संगीत और नृत्य के माध्यम से व्यक्ति स्वयं को खो सकता है और ईश्वर की उपस्थिति का अनुभव कर सकता है।

श्री चैतन्य वापस नवद्वीप लौट आए और अधिकांश समय वे बेफिक्र रहे।

अंतत: उन्होंने संसार को त्याग दिया और एक साधु के जीवन को स्वीकार कर लिया। इसके बाद उन्हें चैतन्य के नाम से जाना जाने लगा।

‘संन्यासी’ बनने के बाद श्री चैतन्य सबसे पहले पुरी आए। राय रामानंद द्वारा उनका परिचय गजपति प्रतापरुद्रदेव से हुआ और प्रतापरुद्रदेव को वैष्णववाद में दीक्षित किया गया।

पुरी से श्री चैतन्य ने सोमनाथ, द्वारिका, मथुरा, वृंदावन, काशी, वाराणसी और प्रयागजैसे दूर-दूर के स्थानों की यात्रा की और इन सभी स्थानों पर कृष्ण के नाम को लोकप्रिय बनाया।

छह लंबे वर्षों तक उन्होंने पूरे भारत की यात्रा की और श्री चैतन्य द्वारा कृष्ण पंथ के नाम का प्रचार किया। 1516 में वह पुरी लौट आये।

यहां, विभिन्न संगीत वाद्ययंत्रों की मदद से, उन्होंने भजन (भजन और कीर्तन) गाते हुए शहर का चक्कर लगाया। उनकी वजह से ही पुरी वैष्णववाद के सबसे महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध केंद्रों में से एक बन गया।

प्रसिद्ध ‘पंच शाखा’-उड़ीसा के पांच मित्र, जगन्नाथ दास, बलराम दास, अच्युत दास, यशोबंत दास और अनाता दास, श्री चैतन्य के अनुयायी बन गए।

पुरी में लंबे समय तक रहने के बाद 1533 ईस्वी में उनकी मृत्यु हो गई, उनके उपदेशों को कृष्णदास कविराज द्वारा चैतन्य चरितामृत में शामिल किया गया है।

अध्यात्म

लोग चैतन्य को भगवान श्रीकृष्ण का अवतार मानते हैं। इसके कुछ सन्दर्भ प्राचीन हिन्दू ग्रन्थों में भी मिलते हैं।श्री गौरांग अवतार की श्रेष्ठता के प्रतिपादक अनेक ग्रन्थ हैं।

इनमें श्री चैतन्य चरितामृत, श्री चैतन्य भागवत, श्री चैतन्य मंगल, अमिय निमाइ चरित और चैतन्य शतक, आदि विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। गौरांग की स्तुति में अनेक महाकाव्य भी लिखे गए हैं।

इनका लिखा कोई ग्रन्थ या पाठ नहीं उपलब्ध है। मात्र आठ श्लोक ही उपलब्ध हैं।इसे शिक्षाष्टक कहते हैं। किंतु गौरांग के विचारों को श्रीकृष्णदास ने ‘चैतन्य-चरितामृत में संकलित किया है।

 बाद में भी समय समय पर रूप जीव और सनातन गोस्वामियों ने अपने-अपने ग्रन्थों में चैतन्य-चरित-प्रकाश किया है। इनके विचारों का सार यह है कि:-

श्रीकृष्ण ही एकमात्र देव हैं। वे मूर्तिमान सौन्दर्य हैं, प्रेमपरक है।

उनकी तीन शक्तियाँ- परम ब्रह्म शक्ति, माया शक्ति और विलास शक्ति हैं। विलास शक्तियाँ दो प्रकार की हैं- एक है प्राभव विलास-जिसके माध्यम से श्रीकृष्ण एक से अनेक होकर गोपियों से क्रीड़ा करते हैं।

दूसरी है वैभव-विलास- जिसके द्वारा श्रीकृष्ण चतुर्व्यूह का रूप धारण करते है। चैतन्य मत के व्यूह-सिद्धान्त का आधार प्रेम और लीला है।

गोलोक में श्रीकृष्ण की लीला शाश्वत है। प्रेम उनकी मूल शक्ति है और वही आनन्द का कारण है। यही प्रेम भक्त के चित्त में स्थित होकर महाभाव बन जाता है। यह महाभाव ही राधा है।

राधा ही कृष्ण के सर्वोच्च प्रेम का आलम्बन हैं। वही उनके प्रेम की आदर्श प्रतिमा है। गोपी-कृष्ण-लीला प्रेम का प्रतिफल है।

चैतन्य महाप्रभु का रोचक प्रसंग

भगवान के भक्त की कथा –

एक बार श्रीचैतन्य महाप्रभु रास्ते में से जा रहे

थे. उनके पीछे गौर भक्त वृन्द भी थे|

महाप्रभु हरे कृष्ण का कीर्तन करते जा रहे थे.

हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण, हरे हरे। हरे राम, हरे राम, राम राम, हरे हरे॥

कीर्तन करते करते महाप्रभु थोडा सा आगे निकल गए, उन्हें बड़ी जोर की प्यास लगी, परन्तु

कही पानी नहीं मिला| तब एक व्यापारी सिर पर मिट्टी का घड़ा रखे सामने से चला आ रहा था| महाप्रभु ने उसे देखते ही बोले ‘भईया बड़ी प्यास

लगी है थोडा सा जल मिल जायेगा’?

व्यापारी में कहा – ‘मेरे पास जल तो नहीं है हाँ इस घडे में छाछ जरुर है’

इतना कहकर उसने छाछ का घड़ा नीचे उतारा.

महाप्रभु बहुत प्यासे थे इसलिए सारी की सारी छाछ पी गए और बोले ‘भईया बहुत अच्छी छाछ थी, प्यास बुझ गई’.

व्यापारी बोला – ‘अब छाछ के पैसे लाओ’!

महाप्रभु -‘भईया पैसे तो मेरे पास नहीं है’?

व्यापारी महाप्रभु के रूप और सौंदर्य को देखकर

इतना प्रभावित हुआ कि उसने सोचा इन्होने

नहीं दिया तो कोई बात नहीं इनके पीछे जो इनके साथ वाले आ रहे है इनसे ही मांग लेता हूँ|

महाप्रभु ने उसे खाली घड़ा दे दिया उसे सिर पर रखकर वह आगे बढ़ गया. पीछे आ रहे नित्यानंद जी और भी भक्त वृन्दो से उसने पैसे मांगे तो वे कहने लगे

‘हमारे मालिक तो आगे चल रहे है जब उनके पास ही नहीं है तो फिर हम तो उनके

सेवक है हमारे पास कहाँ से आयेगे’? उन सब को देखकर वह बड़ा प्रभावित हुआ और उसने कुछ नहीं कहा।

जब घर आया और सिर से घड़ा उतारकर देखा तो क्या देखता है कि घड़ा हीरे मोतियों से भरा हुआ है|

 एक पल के लिए तो बड़ा प्रसन्न हुआ पर अगले ही पल दुखी हो गया| मन में तुरंत विचार आया उन प्रभु ने इस मिट्टी के घड़े को छुआ तो ये हीरे मोती से भर गया, जब वे मिट्टी को ऐसा

बना सकते है तो मुझे छू लेने से मेरा क्या ना हो गया होता?

अर्थात प्रभु की भक्ति मेरे अन्दर आ जाती…. झट दौडता हुआ उसी रास्ते पर गया जहाँ प्रभु को छाछ पिलाई थी| अभी प्रभु ज्यादा दूर नहीं गए थे| तुरंत उनके चरणों में गिर पड़ा

‘प्रभु मुझे प्रेम का दान दीजिये. प्रभु ने उठकर उसे गले से लगा लिया और उसका जीवन बदल गया.

जय जय श्री गौरांग- नित्यानंद महाप्रभु जी !!

हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण, हरे हरे।

हरे राम, हरे राम, राम राम, हरे हरे

कबीर और नानक की तुलना में चैतन्य महाप्रभु के धार्मिक सिद्धांत अभी भी अधिक सरल थे।

उनकी बातों से सैकड़ों लोग मंत्रमुग्ध हो गए। उनके ‘कीर्तन’ पूरे भारत में प्रसिद्ध हुए। इसलिए बहुत ही कम समय में चैतन्य और उनके विचारों ने लोगों पर गहरा प्रभाव डाला।

चैतन्य महाप्रभु के विचार

कृष्ण के प्रति प्रेम

श्री चैतन्य के धर्म का मूल जोर ‘प्रेम’ था और कृष्ण के लिए प्रेम उनके धर्म का मुख्य आधार था।

उन्होंने जोर देकर कहा कि केवल कृष्ण और राधा के नामों का उच्चारण व्यक्ति को परमानंद की ओर ले जा सकता है।

कृष्ण का नाम लेने से और अपने गुरु या गुरु पर गहरी आस्था रखने से व्यक्ति मोक्ष प्राप्त कर सकता है। चूंकि यह मुक्ति का सबसे आसान मार्ग था। यह लोगों को आसानी से स्वीकार्य हो गया।

नाम की महिमा

ईश्वर का नाम और उसका जप चैतन्य की एकमात्र शिक्षा थी।

पूजा के ब्राह्मणवादी तरीकों का विरोध

चैतन्य पूजा के ब्राह्मणवादी तरीकों के बहुत मजबूत आलोचक थे। उनकी राय में इस तरह की जटिल और जटिल धार्मिक प्रथाओं के रूप में ब्राह्मणों ने केवल हिंसा की ओर अग्रसर किया।

इस तरह की प्रथाओं ने न केवल शोषण को बढ़ावा दिया, बल्कि उन्होंने ब्राह्मणों के झूठे घमंड को भी बढ़ावा दिया।

इसलिए उन्होंने लोगों को सलाह दी कि वे पूजा के इस तरह के उपहासपूर्ण तरीकों को छोड़ दें और इसके बजाय, केवल ‘हरे कृष्ण हरे राम’ मंत्र का गहन प्रेम और भक्ति के साथ जाप करें।

कीर्तन या संगीत समारोह

श्री चैतन्य ने ‘कीर्तन’ पर बहुत बल दिया। उनकी राय में ईश्वर की सच्ची पूजा प्रेम, भक्ति, संगीत (गीत) और नृत्य पर निर्भर करती है।

इन सब के सम्मिश्रण से परमानंद की अनुभूति हुई जहाँ कोई ईश्वर की उपस्थिति को महसूस कर सकता था।

 चैतन्य ने कहा कि यह कीर्तन गायन के माध्यम से ही ईश्वरत्व प्राप्त कर सकता है। कीर्तन ने परिवेश को दिव्य वातावरण में बदल दिया। इसलिए उन्होंने कीर्तन के माध्यम से भगवान के सिर तक पहुंचने का सुझाव दिया। के

अचिंत्य भेदभेद

चैतन्य ने “अचिंत्य भेदभेद” के सांख्य दर्शन में लोगों की भीड़ का परिचय दिया, जो यह कहता है कि सर्वोच्च ईश्वर एक साथ एक है और उसकी रचना से अलग है।

उन्होंने सिखाया कि भगवान का पवित्र नाम भगवान का ध्वनि अवतार है। वह निरपेक्ष है – संपूर्ण, उसके पवित्र नाम और उसके दिव्य रूप में कोई अंतर नहीं है।

सुधार कार्य

श्री चैतन्य ने जातिवाद के खिलाफ आवाज उठाई। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को ईश्वर की पूजा करने का अधिकार है और उसके लिए जाति, पंथ या हैसियत जरूरी नहीं है।

मनुष्य के भीतर प्रेम की भावना ही ईश्वर की आराधना के लिए पर्याप्त थी। उन्होंने ब्राह्मणों, शूद्रों, चांडालों और गैर हुन्दुओं और उनके शिष्यों को स्वीकार किया और उनके बीच भाईचारे का बंधन बनाया।

‘यवन’ हरिदास उनके सबसे बड़े भक्त थे। मानव जाति के लिए उनका दूसरा महान संदेश था ‘सभी जीवित प्राणियों से प्रेम करना’। चैतन्य ने सांख्य दर्शन के कुछ मूलभूत सिद्धांतों को स्वीकार किया।

इसके अनुसार भगवान के नाम और उनके अवतार में कोई अंतर नहीं था। इसलिए व्यक्ति अपने विभिन्न अवतारों की पूजा करने के बजाय प्रेम और भक्ति के साथ भगवान का नाम जपने से ही आसानी से मोक्ष प्राप्त कर सकता है।

श्री चैतन्य के उपदेश ने भारत के धार्मिक जगत में एक नई जागृति पैदा की, इसने लोगों को प्रेम की दिव्य भावना के साथ याद किया।

बंगाल, उड़ीसा और वृंदावन वैष्णववाद के प्रमुख केंद्रों के रूप में गिने जाते थे। उनके व्यक्तित्व और प्रेम के उपदेशों ने उन्हें भारत के सभी हिस्सों के लोगों का प्रिय बना दिया।

उनकी मृत्यु के बाद, उनके शिष्यों ने उन्हें एक अवतार के रूप में जिम्मेदार ठहराया और विश्ववासियों ने उन्हें ‘महान भगवान गौरांग’ – ‘गौरंगा महाप्रभु’ के रूप में पूजा करना शुरू कर दिया।

निस्संदेह भक्ति आंदोलन को श्री चैतन्य के योगदान से एक बड़ा बढ़ावा मिला।

चैतन्य पंथ ने आम तौर पर बंगाल में और विशेष रूप से उड़ीसा, बंगाल और बृंदाबन में संप्रदाय के अनुयायियों के बीच सांस्कृतिक गतिविधियों का एक महान युग उत्पन्न किया।

चैतन्य महाप्रभु की 10 शिक्षाएं

आठ छंदों की 16वीं शताब्दी की प्रार्थना ‘शिक्षास्तकम’, चैतन्य महाप्रभु की शिक्षाओं का एकमात्र लिखित रिकॉर्ड है। गौड़ीय वैष्णववाद की शिक्षाएं और दर्शन इसी संस्कृत पाठ पर आधारित हैं। चैतन्य महाप्रभु की शिक्षाओं को 10 बिंदुओं में विभाजित किया गया है और वे भगवान कृष्ण की महिमा पर केंद्रित हैं।

नीचे चैतन्य महाप्रभु की १० शिक्षाओं का उल्लेख किया गया है।

1. कृष्ण परम सत्य हैं – पहले बिंदु में कहा गया है कि कृष्ण, जो भगवान विष्णु के अवतार हैं, ‘सर्वोच्च होने’ हैं। गौड़ीय वैष्णववाद का यह दर्शन वैष्णववाद के समान है, जो भगवान विष्णु को ‘सर्वोच्च अस्तित्व’ मानता है।

2. कृष्ण के पास सभी शक्तियाँ हैं – पहले बिंदु की तरह, यह भी भगवान कृष्ण की महिमा करता है। इस दर्शन के अनुसार, भगवान कृष्ण ब्रह्मांड को चलाने के लिए सभी आवश्यक ऊर्जाओं से संपन्न हैं।

3. भगवान कृष्ण सब कुछ के स्रोत हैं – इसमें कहा गया है कि भगवान कृष्ण ही हैं जो अंततः सभी आध्यात्मिक आनंद और भावनाओं का आनंद लेते हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि कृष्ण परम रस का आनंद लेते हैं, जो एक विशिष्ट स्वाद के निर्माण को संदर्भित करता है।

4. आत्मा (आत्मा) भगवान का एक हिस्सा है – यह हिंदू धर्म का मूल दर्शन है, जिसमें कहा गया है कि सभी आत्माएं सर्वोच्च आत्मा का हिस्सा हैं। यह अवधारणा आत्मा के परमात्मा का हिस्सा होने की अवधारणा के समान है।

5. आत्मा भौतिक रूप में पदार्थ से प्रभावित होती है – इस शिक्षण में कहा गया है कि आत्माएं भौतिक रूप में होने पर पदार्थ से प्रभावित होती हैं। यह आत्मा के ‘तथास्थ’ स्वभाव के लिए जिम्मेदार है।

6. आत्मा मुक्त अवस्था में पदार्थ से प्रभावित नहीं होती – एक बार फिर आत्मा की ‘तथास्थ’ प्रकृति के लिए जिम्मेदार, इस शिक्षा में कहा गया है कि आत्माएं भौतिक रूप में नहीं होने पर पदार्थ के प्रभाव से मुक्त होती हैं।

7. आत्मा अलग है और परमात्मा के समान है – इसमें कहा गया है कि आत्माएं और भौतिक दुनिया अलग हैं, फिर भी भगवान या सर्वोच्च के समान हैं। चैतन्य महाप्रभु की शिक्षाओं के अनुसार, सर्वोच्च व्यक्ति भगवान कृष्ण हैं।

8. आत्मा शुद्ध भक्ति का अभ्यास करता है – चैतन्य महाप्रभु ने भक्ति योग की वकालत की और सिखाया कि शुद्ध भक्ति मुक्ति पाने के तरीकों में से एक है। गौड़ीय वैष्णववाद के अनुसार, मुक्ति आत्मा का परमात्मा में एकीकरण है।

9. कृष्ण के प्रेम को प्राप्त करना ही अंतिम लक्ष्य है – यह सिखाता है कि कैसे कोई भी योग के विभिन्न माध्यमों से भगवान कृष्ण के सच्चे प्रेम को महसूस कर सकता है, विशेष रूप से भक्ति योग, जिसमें भगवान के नाम का जाप शामिल है।

10 प्राप्त होने वाला एकमात्र आशीर्वाद भगवान कृष्ण हैं – चैतन्य महाप्रभु की शिक्षाओं में दसवां और अंतिम बिंदु इंगित करता है कि सभी को परम सत्य की प्राप्ति के लिए प्रयास करना चाहिए, जो इस तथ्य की स्वीकृति है कि कृष्ण ही एकमात्र आशीर्वाद है जिसे प्राप्त किया जा सकता है।

मृत्यु और विरासत

हालांकि चैतन्य महाप्रभु के अनुयायियों का दावा है कि उनकी मृत्यु नहीं हुई क्योंकि वह भगवान कृष्ण के अवतार थे, कई सिद्धांत बताते हैं कि चैतन्य महाप्रभु की हत्या विभिन्न कारणों से की जा सकती थी। हालाँकि, यह एक विवादास्पद सिद्धांत है और सभी द्वारा समर्थित नहीं है।

एक अन्य रहस्यमय सिद्धांत से पता चलता है कि चैतन्य महाप्रभु जादुई रूप से गायब हो गए, जबकि एक अन्य खाते में कहा गया है कि उनकी मृत्यु ओडिशा के पुरी में तोता गोपीनाथ मंदिर में हुई थी।

हालांकि, विद्वानों और इतिहासकारों का कहना है कि चैतन्य महाप्रभु और उनके साथी भगवान श्री कृष्ण का कीर्तन करते-करते समुद्र में समा गए।

इतिहासकारों का यह भी सुझाव है कि चैतन्य महाप्रभु दौरे से पीड़ित थे और मिर्गी के कारण 14 जून, 1534 को उनकी मृत्यु हो सकती थी।

उनके द्वारा प्रारंभ किए गए महामंत्र नाम संकीर्तन का अत्यंत व्यापक व सकारात्मक प्रभाव आज पश्चिमी जगत तक में है।

 यह भी कहा जाता है, कि यदि गौरांग ना होते तो वृंदावन आज तक एक मिथक ही होता। वैष्णव लोग तो इन्हें श्रीकृष्ण का राधा रानी के संयोग का अवतार मानते हैं।

गौरांग के ऊपर बहुत से ग्रंथ लिखे गए हैं, जिनमें से प्रमुख है श्री कृष्णदास कविराज गोस्वामी विरचित चैतन्य चरितामृत।

इसके अलावा श्री वृंदावन दास ठाकुर रचित चैतन्य भागवत तथा लोचनदास ठाकुर का चैतन्य मंगल भी हैं।

कि उनकी अद्भुत भगवद्भक्ति देखकर जगन्नाथ पुरी के राजा तक उनके श्रीचरणों में नत हो जाते थे।

बंगाल के एक शासक के मंत्री रूपगोस्वामी तो मंत्री पद त्यागकर चैतन्य महाप्रभु के शरणागत हो गए थे।

उन्होंने कुष्ठ रोगियों व दलितों आदि को अपने गले लगाकर उनकी अनन्य सेवा की।

वे सदैव हिंदू-मुस्लिम एकता का संदेश देते रहे। साथ ही, उन्होंने लोगों को पारस्परिक सद्भावना जागृत करने की प्रेरणा दी।

वस्तुत: उन्होंने जातिगत भेदभाव से ऊपर उठकर समाज को मानवता के सूत्र में पिरोया और भक्ति का अमृत पिलाया। वे गौडीय संप्रदाय के प्रथम आचार्य माने जाते हैं।

चैतन्य महाप्रभु के द्वारा कई ग्रंथ भी रचे गए। उन्होंने संस्कृत भाषा में भी तमाम रचनाएं की। उनका मार्ग प्रेम व भक्ति का था।

वे नारद जी की भक्ति से अत्यंत प्रभावित थे, क्योंकि नारद जी सदैव ‘नारायण-नारायण` जपते रहते थे। उन्होंने विश्व मानव को एक सूत्र में पिरोते हुए यह समझाया कि ईश्वर एक है। उन्होंने लोगों को यह मुक्ति सूत्र भी दिया-

’कृष्ण केशव, कृष्ण केशव, कृष्ण केशव, पाहियाम। राम राघव, राम राघव, राम राघव, रक्षयाम।`

हिंदू धर्म में नाम जप को ही वैष्णव धर्म माना गया है और भगवान श्रीकृष्ण को प्रधानता दी गई है।

चैतन्य ने इन्हीं की उपासना की और नवद्वीप से अपने छह प्रमुख अनुयायियों (षड गोस्वामियों), गोपाल भट्ट गोस्वामी, रघुनाथ भट्ट गोस्वामी, सनातन गोस्वामी, रूप गोस्वामी, जीव गोस्वामी, रघुनाथ दास गोस्वामी को वृंदावन भेजकर वहां गोविंददेव मंदिर, गोपीनाथ मंदिर, मदन मोहन मंदिर, राधा रमण मंदिर, राधा दामोदर मंदिर, राधा श्यामसुंदर मंदिर और गोकुलानंद मंदिर नामक सप्त देवालयों की आधारशिला रखवाई।

लोग चैतन्य को भगवान श्री कृष्ण का अवतार मानते हैं।

महाभारत और कुछ पुराणों के छंदों की जाँच करें जो इस तथ्य का खुलासा करते हैं कि भगवान चैतन्य सर्वोच्च भगवान हैं।

चैतन्य महाप्रभु की शास्त्रों के द्वारा पुष्टि

श्री चैतन्य महाप्रभुआधुनिक हरे कृष्ण आंदोलन के प्रणेता, 500 साल पहले मायापुर, पश्चिम बंगाल में दिखाई दिए।

वह स्वयं कृष्ण हैं, जो युग-धर्म – हरिनाम संकीर्तन (भगवान के पवित्र नामों का सामूहिक जप) का उद्घाटन करने के लिए प्रकट हुए थे।

उन्होंने कभी भी खुद को भगवान के अवतार के रूप में प्रकट नहीं किया और एक पूर्ण भक्त के जीवन का उदाहरण दिया, ताकि अन्य लोग उनके नक्शेकदम पर चल सकें।

हालाँकि, इस तथ्य की पुष्टि कई अधिकृत शास्त्रों में होती है और हमारे संप्रदाय के महान आध्यात्मिक गुरुओं द्वारा भी इसकी पुष्टि की जाती है।

भगवान चैतन्य का वर्णन उनके रूप, शारीरिक विशेषताओं, विशेषताओं और लीलाओं के रूप में उनके प्रसिद्ध सहयोगियों और महान भक्तों के कई कार्यों में पाया जाता है, जो पूरी तरह से वैदिक साहित्य में भविष्यवाणी के अनुरूप हैं।

(1) श्रीमद-भागवतम (11.5.32)

हरिनम-संकीर्तन-आंदोलन

कृष्ण-वर्णम तविशाकृष्णम संगोपंगस्त्र-परशदम्

यज्ञैः संकीर्तन-प्रयायर यजंति ही सुमेधासाह

कलियुग में, बुद्धिमान व्यक्ति भगवान के अवतार की पूजा करने के लिए सामूहिक नामजप करते हैं जो लगातार कृष्ण के पवित्र नाम का जप करते हैं।

यद्यपि उनका रंग काला नहीं है, वे स्वयं कृष्ण हैं। उनके साथ उनके सहयोगी, नौकर, हथियार और गोपनीय साथी हैं।

कृष्ण-वर्णम:  यह शब्द दर्शाता है कि भगवान चैतन्य कृष्ण की श्रेणी के हैं या दूसरे शब्दों में वे स्वयं कृष्ण हैं। कृष्ण-वर्णम का अर्थ भी है जो लगातार भगवान कृष्ण के नाम का जप करता है।

तविसा अक्रसनम:  उनका शारीरिक रंग काला नहीं है। वह सुनहरे जैसे पीले रंग में दिखाई दिए।

संगोपांगस्त्र-प्रसादम:  भगवान चैतन्य हमेशा अपने गोपनीय सहयोगियों जैसे भगवान नित्यानंद, अद्वैत आचार्य, श्री गदाधर पंडिता, श्रीवास आचार्य, हरिदास ठाकुर, आदि के साथ होते हैं।

अन्य अवतारों में, भगवान ने कभी-कभी राक्षसों को हराने या मारने के लिए अपने हथियारों का इस्तेमाल किया। , लेकिन इस युग में भगवान चैतन्य महाप्रभु की अपनी आकर्षक आकृति के साथ राक्षसी मानसिकता को वश में करते हैं, जो कृष्ण-प्रेम, कृष्ण के शुद्ध प्रेम को स्वतंत्र रूप से वितरित करते हैं। वही उसका हथियार है।

(२) महाभारत से विष्णु-सहस्र-नाम स्तोत्र:

महाभारत में पाए जाने वाले विष्णु-सहस्र-नाम स्तोत्र में निहित 1000 नामों में से प्रत्येक, सर्वोच्च भगवान के दिव्य रूपों, गुणों, लीलाओं आदि के एक या एक से अधिक पहलुओं की महिमा करता है।

निम्नलिखित नाम भगवान चैतन्य की शारीरिक विशेषताओं को दर्शाते हैं।

सुवर्णा-वर्णो हेमंगो वरंगास कैंडानंगदि

सुवर्ण-वर्ण:  उनका रंग सुनहरा है।

हेमंगा:  उसके पास पिघला हुआ सोना जैसा दिखता है।

वरंगा:  वह अति सुंदर है।

चंदनंगडी:  भगवान के शरीर को चंदन के गूदे से लिप्त किया जाता है।

निम्नलिखित नामों में भगवान चैतन्य के गुणों और गतिविधियों का वर्णन किया गया है।

सन्यास-केआरसी चमः संतो निष्ठा-संति-परायण:

संन्यास-कृत:  वह जीवन के त्याग की व्यवस्था को स्वीकार करता है। (भगवान चैतन्य ने 24 साल की उम्र में संन्यास स्वीकार कर लिया था।)

समा:  वह पूरी तरह से इंद्रिय-नियंत्रित या सुसज्जित है।

संता:  वह पूरी तरह से शांत है।

निष्ठा:  वह भगवान कृष्ण के पवित्र नाम के जप में दृढ़ता से लगा हुआ है।

शांति-परायण:  वह भक्ति और शांति का सर्वोच्च निवास है। वह अवैयक्तिक दार्शनिकों को चुप करा देता है। (भगवान चैतन्य ने दार्शनिक वाद-विवाद में कई प्रख्यात मायावादियों को हराया और उन्हें वैष्णववाद में परिवर्तित कर दिया।)

(3) गरुड़ पुराण

चैतन्य-महा-प्रभु-इस-माता-श्रीमती-शची-देवी के साथ

परमपिता परमेश्वर कहते हैं:

अहम् पूर्णो भविष्य्यि युग-संध्याउ विस्सातः

मायापुरे नवद्वीपे भविष्य्यमि सचि-सुत:

कलियुग के पहले भाग में, मैं मायापुर, नवद्वीप में अपने पूर्ण आध्यात्मिक रूप में प्रकट होऊंगा और शची का पुत्र बनूंगा।

श्री चैतन्य का जन्म मायापुर (नवद्वीप, पश्चिम बंगाल के पवित्र शहर का एक उपखंड) में कलियुग की शुरुआत के लगभग ४,५०० साल बाद १४८६ में श्रीमती शची देवी के पुत्र के रूप में हुआ था।

चैतन्य-प्रभु-एट-भगवान-जगन्नाथ:

इस पुराण में भी कहा गया है:

काले प्रथम-संध्यायम लक्ष्मी-कांतो भविष्यति दारु

-ब्रह्मा-सम्पा-स्थः सन्यासी गौरा-विग्रहः

कलियुग के पहले भाग में, सुनहरे रंग में सर्वोच्च भगवान लक्ष्मी के पति बनेंगे। तब वे संन्यासी बन जाएंगे और भगवान जगन्नाथ के पास निवास करेंगे।

श्री चैतन्य ने अपनी शाश्वत पत्नी श्रीमती लक्ष्मीप्रिया से शादी की और बाद में 24 साल की उम्र में संन्यास ले लिया।

संन्यास की स्वीकृति के बाद, उन्होंने नवद्वीप छोड़ दिया और उड़ीसा में भगवान जगन्नाथ के पवित्र शहर पुरी में रहने लगे। पुरी में भगवान जगन्नाथ को पुराणों में दारू-ब्रह्मा के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यहां के देवता नीम की लकड़ी से बने हैं। दारू शब्द का अर्थ संस्कृत में लकड़ी होता है।

चैतन्य-महा-प्रभु-हाथ-सज्जित-ए-बांस-छड़ी1

यो रेमे सह-बल्लवी रमायते वृंदावने ‘हर-निसम यह

कम्सम नी जघना कौरव-राणे यह पांडवणं सखा

सो’ यम वनाव-दंड-मंदिता-भुजाः संन्यास-वेश स्वयं

निहसंदेहं उपगतः क्षितन्य-तलेः

गोपियों के साथ अपनी लीलाओं का आनंद लेने वाले, वृंदावन के निवासियों को दिन-रात आनंद से भरने वाले, कंस का वध करने वाले और कौरवों के बीच युद्ध में पांडवों से मित्रता करने वाले सर्वोच्च भगवान, निस्संदेह, फिर से आएंगे। पृथ्वी को वह चैतन्य नाम का संन्यासी होगा जिसकी भुजा को बांस की छड़ी से सजाया जाएगा।

इस श्लोक से स्पष्ट है कि भगवान कृष्ण स्वयं चैतन्य महाप्रभु के रूप में प्रकट हुए थे। प्रथा के अनुसार, एक संन्यासी को बांस की छड़ी (डंडा) ले जाना चाहिए। भगवान चैतन्य ने एक बांस की एक छड़ी ले रखी थी क्योंकि वह एक-दंड संन्यासी थे।

(4) नरसिंह पुराण

सत्ये दैत्य-कुलधि-नासा-समये

सिम्होर्ध्वा-मर्त्यकृतिस

त्रेतायम दास-कंधारम

परिभवन रमेति नमस्कार

गोपालन परिपालयन व्रज-शुद्ध

भरम हरन द्वापारे गौरांगः

प्रिया-कीर्तनः

कलियुगे चैतन्य-नाम-प्रभु:

सर्वोच्च भगवान जिन्होंने दैत्यों को तबाह करने वाली एक भयानक बीमारी का इलाज करने के लिए सत्य-युग में आधे आदमी, आधे शेर का रूप धारण किया, और जिन्होंने राम के रूप में प्रकट होकर त्रेता-युग में दस सिर वाले रावण पर विजय प्राप्त की, और जिसने द्वापर-युग में पृथ्वी के बोझ को हटा दिया और व्रज-पुर के चरवाहों की रक्षा की, कलियुग में चैतन्य नाम से भगवान होंगे। उसका स्वर्ण रूप होगा और वह भगवान के पवित्र नामों का जप करने में प्रसन्न होगा।

(५) पद्म पुराण

सर्वोच्च भगवान कहते हैं:

काले प्रथम-संध्यायम गौरनगोथम माहि-कथा

भागीरथी-तते रमी भविष्यामि सचि-सुतह

मैं कलियुग के पहले भाग में पृथ्वी पर भागीरथी (गंगा) के तट पर एक सुंदर स्थान में स्वर्ण रूप धारण करके शची के पुत्र के रूप में जन्म लूंगा।

श्री चैतन्य का जन्म स्थान मायापुरा गंगा के तट पर है। ब्रह्म पुराण में भगवान चैतन्य के प्रकट होने की भविष्यवाणी करने वाला एक ऐसा ही श्लोक है।

(६) नारद पुराण

भगवान के सर्वोच्च व्यक्तित्व कहते हैं:

अहम एव कलौ विप्र नित्यं प्रचन्ना-विग्रहः

भगवद-भक्त-रूपेण लोकन रक्षमी सर्वदा

हे ब्राह्मण, मैं कलियुग में भगवान के भक्त के रूप में खुद को छुपाकर, सभी दुनियाओं का उद्धार करूंगा।

दिविज भुवी जयध्वं जयध्वं भक्त-रूपिनः कलौ

संकीर्तनारंभे भविष्य्यामी सचि-सूत

हे देवताओं, कृपया कलियुग में भक्तों के रूप में पृथ्वी पर अवतरित हों। संकीर्तन का उद्घाटन करने के लिए मैं शची के पुत्र के रूप में अवतार लूंगा।

(७) भविष्य पुराण

चैतन्य-महा-प्रभु-कर-संकीर्तन-के दौरान-जगन्नाथ-रथ-यात्रा

सर्वोच्च भगवान कहते हैं:

आनंदश्रु-कला-रोमा-हर्सा-पूर्णम तपो-धन सर्वे

मामा एव द्रक्ष्यंति कलौ संन्यास-रूपिनम

हे तपस्वी ऋषि, कलियुग में हर कोई मेरे दिव्य रूप को सन्यासी के रूप में देखेगा। मैं आनंद के आंसू बहाने और परमानंद के अंत में खड़े बाल जैसे लक्षण प्रदर्शित करूंगा।

भगवान चैतन्य हमेशा कृष्ण के नाम का जप करते हुए और संकीर्तन के दौरान नृत्य करते हुए पारलौकिक परमानंद के सागर में विलीन हो गए थे। उन्होंने भगवान से तीव्र अलगाव महसूस किया और उन भक्ति भावनाओं के कारण कृष्ण के लिए शुद्ध प्रेम के विभिन्न उत्साहपूर्ण लक्षण प्रदर्शित हुए, जैसे लगातार आंसू, आवाज का दम घुटना, शरीर पर बाल खड़े होना आदि।

(८) वायु पुराण

परमपिता परमेश्वर कहते हैं:

पौर्णमास्यम फाल्गुनस्या फाल्गुनी-रक्ष-योगतः

भविष्यये गौरा-रूपेण सचि-गर्भे पुरंदरत

फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन, मैं फाल्गुनी नक्षत्र के साथ, शची के गर्भ में पुरंदर द्वारा उत्पन्न स्वर्ण रूप में प्रकट होऊंगा।

भगवान चैतन्य का जन्म फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन हुआ था। उनके पिता जगन्नाथ मिश्रा और पुरंदर मिश्रा के नाम से जाने जाते थे।

स्वर्णदि-तिराम अस्थय नवद्वीप जनस्राय

तत्र द्विज-कुलम प्रप्तो भविष्य्यामी जनलय

मैं गंगा के किनारे नवद्वीप में एक ब्राह्मण परिवार में प्रकट होऊंगा।

सुनहरे रूप में दिखना

भक्ति-योग-प्रदानय लोकस्यानुग्रहय च

संन्यास-रूपं अस्थय कृष्ण-चैतन्य-नाम-धर्क

लोगों को भक्ति सेवा में संलग्न करने और उन पर दया करने के लिए, मैं कृष्ण चैतन्य नाम स्वीकार करते हुए संन्यास लूंगा।

(९) मत्स्य पुराण

निम्नलिखित कथन प्रभु द्वारा दिया गया है:

मुंडो गौराह सु-दिरघंगस त्रि-श्रोत-तिरा-संभव:

दयालु कीर्तन-ग्रही भविष्य्यामी कलौ युगे

कलियुग में मैं सुनहरे रंग का हो जाऊँगा। मैं लंबा हो जाऊंगा और मेरा सिर मुंडा होगा। जिस स्थान पर मेरा जन्म होगा वह तीन नदियों का मिलन स्थल होगा। मैं बहुत दयालु होऊंगा और पवित्र नामों का जाप करने में लगूंगा।

भगवान चैतन्य, एक एक-दंड संन्यासी होने के नाते पूरी तरह से मुंडा सिर था जैसा कि ऐसे संन्यासियों के लिए प्रथा थी। तीन नदियाँ – गंगा, यमुना और सरस्वती (जो वर्तमान में अपने छिपे हुए रूप में हैं) – नवद्वीप में बहती हैं।

(१०) स्कंद पुराण

स्वर्ण-रूप-के-सर्वोच्च-भगवान

सर्वोच्च भगवान कहते हैं:

अंतः कृष्णः बहिर गौरः संगोपंगस्त्र-प्रसादः

सचि-गर्भे संपूर्णनुयं माया-मनुसा-कर्म-क्रत

आंतरिक रूप से कृष्ण लेकिन बाहरी रूप से सुनहरे रूप में, मेरे साथ मेरे सहयोगी, नौकर, हथियार और गोपनीय साथी होंगे। शची के गर्भ में जन्म लेकर मैं एक इंसान की भूमिका स्वीकार करूंगा।

भगवान चैतन्य का मिशन

भगवान चैतन्य महाप्रभु ने अपने शिष्यों को कृष्ण के विज्ञान पर किताबें लिखने का निर्देश दिया, एक ऐसा कार्य जो उनका अनुसरण करने वाले लोग आज भी करते आ रहे हैं।

भगवान चैतन्य द्वारा सिखाए गए दर्शन पर विस्तार और व्याख्या वास्तव में शिष्य उत्तराधिकार की प्रणाली के कारण सबसे अधिक विशाल, सटीक और सुसंगत हैं।

यद्यपि भगवान चैतन्य अपनी युवावस्था में एक विद्वान के रूप में व्यापक रूप से प्रसिद्ध थे, उन्होंने केवल आठ छंद छोड़े, जिन्हें शिक्षास्तक कहा जाता है।

ये आठ पद स्पष्ट रूप से उनके मिशन और उपदेशों को प्रकट करते हैं।